• Home
  • World Cancer Day 2021: कैंसर रोगियों के लिए देवदूत बनीं गंगा प्रेम हॉस्पिस की नर्स

World Cancer Day 2021: कैंसर रोगियों के लिए देवदूत बनीं गंगा प्रेम हॉस्पिस की नर्स

दीपकजोशी,रायवाला(देहरादून)।WorldCancerDay2021अनवरतकैंसररोगियोंकीसेवामेंजुटीरायवाला(देहरादून)स्थितगंगाप्रेमहॉस्पिसकीनौनर्स'नरसेवाहीनारायणसेवा'केभावकोचरितार्थकररहीहैं।इन्हेंसामनेदेखकरअसहनीयपीड़ासेकराहरहेकैंसररोगीकोनकेवलसहारामिलताहै,बल्किउसमेंजीनेकाहौसलाभीबढ़ताहै।

एकस्टेज(अवस्था)केबादकैंसररोगीऔरउनकेपरिजनोंकीउम्मीदटूटनेलगतीहैं।तबबीमारीअसाध्यस्थितिमेंपहुंचचुकीहोतीहै।ऐसेमेंस्वजनमरीजकोअस्पतालसेघरलेआतेहैं।लेकिन,कैंसरसेहोनेवालीअसहनीयपीड़ाजीवनकीइसअंतिमअवस्थाकोबेहदकष्टकारीबनादेतीहै।रोगियोंकीइसपीड़ाकोगंगाप्रेमहॉस्पिसनकेवलमहसूसकररहाहै,बल्किउसेकमकरनेकीकोशिशोंमेंभीजुटाहुआहै।इसीभावनाकोलेकरहॉस्पिसकीनर्सकैंसरकीअंतिमस्टेजवालेमरीजोंकीदेखभालकेलिएउनकीचौखटपरपहुंचतीहैं।हॉस्पिसकेमाध्यमसेदेहरादून,हरिद्वार,रुड़की,ऋषिकेशऔरआसपासकेक्षेत्रोंमें133कैंसररोगियोंकीदेख-रेखऔरसेवाकीजारहीहै।

नर्सऐसेकरतीहैमरीजोंकीसेवा

मरीजकेघरपहुंचकरउसकेदर्दकाजायजालेना,ब्लडप्रेशर,नाड़ी,शरीरकातापमानआदिचेककरना।अन्यरोगकेलक्षणदेखना।मरीजकोयदिकोईघावहैतोउसकीड्रेसिंगकरना,खानेयापेशाबकीनलीलगीहुईहैतोउसकासहीरख-रखावऔरसाफ-सफाईकरना।मरीजकीदवाइयांदेखना,खानेकेतरीकेसमझानाऔरउनकोव्यवस्थितकरना।यह सुनिश्चितकरनाकिमरीजदवाईकीसहीडोजसहीसमयपरलेरहाहैयानहीं।मरीजकोमानसिकऔरभावनात्मकस्तरपरसशक्तकरना,उसकीचिंताओंकासमाधानकरनाऔरमुस्कानकेसाथदोबाराआनेकाआश्वासनदेना।

कैंसररोगियोंकासहाराबनाहॉस्पिस

रायवालास्थितगंगाप्रेमहॉस्पिसमेंनकेवलकैंसररोगियोंकीसेवाहोतीहै,बल्किउन्हेंजीनेकाहौसलाभीमिलताहैं।वर्तमानमेंयहांकैंसरकीआखिरीअवस्थावालेआठ कैंसररोगियोंकीदेखभालहोरहीहै।

2005मेंशुरूहुईपहल

राजीवगांधीकैंसरअस्पतालदिल्लीकेवरिष्ठकैंसरसर्जनएवंमेडिकलनिदेशकडॉ.अजयकुमारदीवाननेवर्ष2005मेंकैंसररोगियोंकीसेवाकेलिएऋषिकेशमेंयहपहलकी।तबसेहरमहीनेकेअंतिमरविवारकोशिविरलगाकरकैंसररोगियोंकीमुफ्तजांचकीजारहीहै।सफदरजंगअस्पतालदिल्लीकीवरिष्ठचिकित्सकडॉ.रुपालीदीवान,आर्मीसेरिटायरएवंराजीवगांधीकैंसरअस्पतालकेडॉ.जीएसवत्सवतरणजीतसिंहकैंसररोगियोंकीनियमितजांचवदेखभालकरनेवालीउनकीटीमकाहिस्सारहतेहैं।

कोरोनाकालमेंजारीरहीसेवा

कोरोनाकालमेंभीगंगाप्रेमहॉस्पिसनेहोमविजिटजारीरखा,ताकिमरीजोंकोअस्पतालजानेकीजरूरतनपड़ेऔरवहकोविड-19केइन्फेक्शनसेबचसके।इसकेअलावाडॉ.एकेदीवानद्वारारोगियोंकोवर्चुअलपरामर्शदियागया।

133गंभीरमरीजोंकेघरपहुंचरहींनर्स

गंगाप्रेमहॉस्पिसकीसमन्वयकपूजाडोगराबतातीहैंकिअबतकहोमविजिटकेजरिये25हजारसेअधिकरोगियोंकीसेवाकीगईहै।वर्तमानमेंहॉस्पिसकीओरसेकैंसरकीअंतिमअवस्थावाले133मरीजोंकोघरपहुंचकरपीड़ानिवारकसेवाएंनिश्शुल्कदीजारहीहैं।इनमेंऋषिकेशमें34,देहरादूनमें57वहरिद्वारमें42रोगीहैं।

-सिस्टरयुडॉन(गंगाप्रेमहॉस्पिस)नेकहाकिसेवाकेदौरानजबकोईकैंसरपीडि़तबुजुर्गखुदकादुखभूलअपनाहाथमेरेसिरपररखताहैतोमेरेलिएइससेबड़ाखुशीकापलकोईदूसरानहीं।जबहममरीजकीहीलिंगकरतेहैंतोउसेभीलगताहैकोईदुख-दर्दबांटनेवालाआयाहै।

-सिस्टरमनीषाजोशी(गंगाप्रेमहॉस्पिस)नेकहाकिआखिरीस्टेजकेकिसीकैंसरपीडि़तकीसेवाकरनासबसेचुनौतीकाकार्यहै।इसदुखसेजूझरहेपरिवारकीकाउंसिलिंगभीकमचुनौतीपूर्णनहीं।ऐसेमेंकिसीमरीजकेचेहरेपरमुस्कानतैरजाएतोसचमुचबड़ीखुशीमिलतीहै।

सिस्टरममताकृषाली(गंगाप्रेमहॉस्पिस)नेकहाकिनिराशामेंभीआशाछिपीहै,यहीभावनामुझेसेवाकार्यकेलिएप्रेरितकरतीहै।कईबारऐसेमरीजभीमिलतेहैं,जोबोलनेयाअपनीसमस्याबतानेमेंअक्षमहोतेहैं।ऐसेमेंउनकेदर्दकोसमझनाअलगहीतरहकाचैलेंजहै।

यहभीपढ़ें-एकशिक्षकऐसेभी:खेल-खेलऔरगीतोंसेगणितकोबनायाआसान,परिणामसेमिलामुकाम